स्त्री रोग विशेषज्ञों(Gynaecology Doctor) की राय – जानिए गर्भ ठहरने का सही समय और क्या खाए क्या न खाए

हमारे देश में आज भी सेक्स से जुडी हुई बातों को परिवार में या समाज में खुले आम नहीं करते हैं| हमारे समाज में कुछ ऐसी सभ्यता कभी-२ नुकसान देये हो जाती है कोई भी कार्य करने से पहले उसकी पूरी जानकारी ठीक से होना जरूरी होता है क्योंकि जब आप को पूरी जानकारी होगी तो उसके परिणाम अच्छे आने की संभावनाएं अधिक बढ़ जाती है यही बात गर्भधारण की प्रक्रिया पर भी लागू होती है
जब कोई शादीशुदा जोड़ा संतान पैदा करने की सोचता है तो दोनों लोगों को गर्भधारण की प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए तो आज हम आज हम स्त्री रोग विशेषज्ञ के द्वारा दिए गए परामर्श की कुछ जानकारी एकत्रित की है-
किसी भी महिला के लिए मां बनने का अनुभव नहीं होता है और बहुत सी गलतियां हो जाती है एक महिला के लिए मां बनने का फल सबसे खूबसूरत होता है पर कुछ कारणों से महिलाओं में प्रेगनेंसी में देरी हो जाती है ऐसे में महिलाओं के मन में बहुत सारे सवाल उठने लगते हैं जैसे कि बच्चा पैदा करने का सही समय,  गर्भ धारण के लिए कब मेल(Sex) करें, पीरियड्स के कितने दिन बाद प्रेग्नेंट होने की संभावना होती है ऐसे बहुत सारे सवाल मन में आते हैं कि प्रेग्नेंट कैसे होगी है|

गर्भधारण की प्रक्रिया के बारे में कुछ विशेषज्ञों की राय इस प्रकार है

  1. सर्वप्रथम यदि कोई ऐसी परेशानी है तो आप डॉक्टर से मिले और नियमित रूप से जांच कराएं| कभी -2 शरीर में कुछ परेशानियों के कारण प्रेगनेंसी  में रुकावट आती है, अगर कोई दूसरी सेक्स संबंधी समस्या या कोई बीमारी हो तो आप डॉक्टर को बेहिचक बताना चाहिए| जिससे आपका सही से इलाज हो सके है|
  2. महिला और पुरुष दोनों को ही जांच करवाना चाहिए स्त्रियों में गर्भाशय में सूजन, हारमोंस का असंतुलन, थाइरोइड जैसे कुछ कारणों से आपके प्रेगनेंसी में बाधा डालते हैं
  3. वही पुरुषों पुरुषों में शुक्राणु की कमी होने के कारण पिता बनने से वंचित होने लगते हैं यदि आप दोनों को इसमें से कोई भी समस्या हो तो आप डॉक्टर को बताए चिकित्सक आपको इसका इलाज और प्रेग्नेंट होने के बारे बताये गा|

गर्भ धारण करने का सबसे अच्छा समय –

  • पति और पत्नी को एक बात की ठीक से जानकारी होनी चाहिए कि गर्भधारण के लिए संभोग कब करना चाहिए, संभोग का सही समय जब स्त्री के अंडाशय से अंडे निकलते हैं तब सेक्स करना चाहिए लेकिन आप को जानना बहुत जरूरी है यह ओव्यूलेशन का समय कब और कितने समय तक होता है ओव्यूलेशन(ओवेरी Ovary से अंडे निकलने का टाइम ) का पता लगाने के लिए विशेषज्ञों द्वारा दी गई सलाह-
  • यह एक तरह से मासिक धर्म से जुड़ा हुआ समय होता है यह हर महिला का ओव्यूलेशन का समय अलग-अलग होता है ओव्यूलेशन का समय पता होने से पहले महिला को पीरियड्स का समय का पता होना चाहिए|
  • महिलाओं को अपने पीरियड्स समय का कैलेंडर सेट कर लेना चाहिए किस तारीख को पीरियड्स शुरू हुआ था और अगला पीरियड्स कब आयेगा| पीरियड्स शुरू होने के लगभग 12 से 14 दिन पहले का समय  ओव्यूलेशन का होता है| यह पीरियड्स के आने के 7 दिन पहले तक हो सकता है इस बीच महिलाओं में प्रजनन क्षमता बहुत अधिक बढ़ जाती है
  • मान लीजिए यदि किसी महिला के पीरियड्स 25 को आता है तो उसका ओव्यूलेशन समय 11 से 16  के बीच हो सकता हैं महिलाओं को गर्भधारण के लिए शुक्राणु और अंडे का मिलन होना जरूरी होता है
  • अंडाशय से अंडा निकलने के बाद 26 से 36 घंटे तक जीवित रहता है उसी टाइम पुरुष को संभोग करना चाहिए ओव्यूलेशन समय के दौरान पुरुष को हर रोज संभोग करना चाहिए अगर रोज ना कर पाए तो एक दिन छोड़कर दूसरे दिन संभोग करना चाहिए ऐसा करने से शुक्राणु स्त्री के ओवरी तक जाते हैं जहां पर स्त्री के अंडे से मिलन होने की संभावना बढ़ जाती है|
  • पुरुष का शुक्राणु स्त्री के ओवरी में जाने के बाद 24 या उसे जादा घंटे तक जिंदा रह सकता हैं तो हर दूसरे दिन संभोग करना जरूरी रहता है|
  • ओव्यूलेशन के दौरान शरीर का तापमान बढ़ जाता है।
  • हार्मोन में बदलाव होने के कारण सेक्स की इच्छा ज्यादा होती है।

गर्भधारण करने की पोजीशन और सावधानियां-

  • आप को संभोग करने की कुछ पोजीशन के बारे में बताते हैं, संभोग की मुख्य दो पोजीशन बताई जाती है जो गर्भधारण में सहायक होती है लोगों का मानना है संभोग के बाद यदि पत्नी पीठ के बल थोड़ी देर तक लेटी रहना चाहिए|  तो गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है|
  • पहली पोजीशन जब आपके पति आपके ऊपर हों- मिशनरी मुद्रा और दूसरी डॉगी स्टाइल मुद्रा, जब आप हाथों और घुटने के बल हों और आपके पति पीछे से प्रवेश करें।
  • सामान्य समझ यही कहती है कि इन मुद्राओं में गहराई तक भेदन हो पाता है और शुक्राणु भी सीधे ग्रीवा (गर्भाशय का मुख) के पास पहुंचते हैं।
  • एम.आर.आई. स्कैन से पता चलता है कि संभोग की इन दोनों ही मुद्राओं में लिंग ग्रीवा और योनि की दीवार के बीच खाली स्थान तक पहुंचता है। मिशनरी अवस्था में यह सुनिश्चित होता है कि लिंग ग्रीवा के सामने के खाली स्थान में पहुंचे। वही, पीछे से प्रवेश की मुद्रा में लिंग ग्रीवा के पीछे के खाली स्थान तक पहुंचता है।

How to Get Pregnant

Best positions for couples || Getting Pregnant Fast || How to Getting Pregnant, #HowtoGetPregnant, #healthnewsup

Posted by Health Newsup on Saturday, 15 July 2017

 

  • वैसे यह काफी अजीब बात है कि कुछ विशेषज्ञ अपना समय किन-किन कामों में लगाते हैं! यह भी हो सकता है कि संभोग की अन्य मुद्राओं, जैसे कि खड़े होकर या महिला के ऊपर होने वाली मुद्राओं में भी शुक्राणु सीधे ग्रीवा के एकदम पास ही पहुंचते हों। इसके बारे में अभी पूरी जानकारी नहीं है।
  • इसलिए, विविध तरीकों से अपने प्रेम संबंधों का आनंद लें और गर्भधारण करने की प्रक्रिया का पूरा मजा लें।
  • धूम्रपान और शराब का सेवन ना करें
  • गर्भधारण के लिए स्त्री मानसिक रूप से तैयार होना जरूरी हैं
  • गर्भधारण करने के लिए अपने वजन पर नियंत्रित रखें
  • सेक्स करते समय कोई भी तेल या चिकनाई का इस्तेमाल ना करें
  • महिला को ज्यादा भारी भरकम एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए
  • यदि लड़की या महिला बहुत ज्यादा कमजोर या बहुत ज्यादा मोटी है तो गर्भधारण की समस्या आ सकती है
  • गर्भधारण योजना बनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए सेक्स करने के बाद लिंग को योनि में जब तक बाहर ना निकाले जब तक वह खुद बाहर नहीं आ जाता है
  • सेक्स के बाद महिला को 15 से 20 मिनट तक तक पीठ के बल लेटे रहना चाहिए जिससे इस पर इस इस पर स्पर्म स्पर्म(sperm) बाहर निकलने की संभावना कम हो जाती है और योनि को साफ़ ना करें, योनि को सुबह साफ करें|
  • पुरुषों को अपने लिंग और अंडकोष को गर्म पानी से नहीं धोना चाहिए जिससे शुक्राणु मरने का खतरा रहता है कोई भी गर्म चीज जैसे लैपटॉप बिस्तर पर रख रखने वाला छोटा और टेबल लाइट आदि जंगो  पर नहीं रखना चाहिए पुरुष गर्म पानी से नहाने के बजाय नार्मल पानी से नहाना चाहिए
गर्भावस्था में क्या खाएं और क्या ना खाएं-
  • महिलाओ को गर्भावस्था के दौरान करें संतुलित और पौष्टिक आहार का सेवन बहुत जरुरी होता हैं
  • खाने में प्रोटीन, आयरन और विटामिन आदि की भरपूर मात्रा होनी चाहिए| गहरी हरी पत्ती वाली सब्जियों जैसे पालक, सरसों, ब्रोकोली को खाना चाहिए इसके अतिरिक्त, फूलगोभी, चुकंदर, शकरकंद, गाजर, मटर, शलगम, मूली, टमाटर, प्याज, गोभी, आलू का सेवन करें |
  • आयरन और फोलिक एसिड की गोली को भी शमिल करें। यह डॉक्टर कि सलाह के अनुसार ले|
  • फलीदार (बींस) सब्जियां,
  • फल: जैसे संतरा, आंवला, आम, अंगूर, खजूर, किशमिश और स्ट्रॉबेरी का सेवन करें | सभी फल सब्जियां एक बैलेंस बना कर खाएं, कुछ फलो की तासीर गर्म होती है जैसे अंगूर इनको थोड़ी कम मात्रा में खाएं |
  • अनाज : मक्का और गेहूं के अंकुर
  • नट्स : मूंगफली, बादाम, अखरोट समेत सभी नट्स
  • गेहूं की रोटी, चावल, घी, मट्ठा, दलिया, पनीर, नारियल पानी, दही, मलाई नियमित खाएं।
  • गर्भवती महिलाओं को खाना खाने के बाद थोड़ी मात्रा में अजवाइन अवश्य लेना चाहिए। इससे मिचली नहीं आती और खाना जल्दी हजम होता है।
  • गर्भवती अवस्था में पियें अधिक से अधिक पानी

प्रेगनेंसी में क्या न खाएं :

  • गर्भवती हैं तो पपीता ना खाएँ
  • कच्चे अंडे गर्भवती महिलाएँ खाने से बचें
  • गर्भावस्था के दौरान शराब ना पिएं
  • गर्भावस्था के दौरान कॉफी, चाय,, जंक फ़ूड, फ़ास्ट फ़ूड, पिज़्ज़ा, बर्गर, चोमिन, मैगी, चॉकलेट, आइसक्रीम, सॉफ्ट ड्रिंक और एनर्जी ड्रिंक्स से दूर ही रहें
  • गर्भावस्था में उच्च स्तर के पारे वाली मछली ना खाएँ
  • क्रीम दूध के साथ बना पनीर गर्भावस्था में ना खाएँ
  • गर्भावस्था के दौरान अधपका मीट न खाएं या कच्चा मांस नहीं खाना चाहिए
  • प्रेगनेंसी में कच्चा या कम उबला दूध न पीएं
  • प्रेगनेंसी में बासी, गरिष्ठ, तला हुआ, मिर्च-मसालेदार चटपटा आहार न खाएं।
  • प्रेगनेंसी में बिना धुली सब्जियां न खाएं

जरुर रखें ख्याल रखे –

  • प्रेगनेंसी में शारीरिक स्वच्छता का पूरा ध्यान रखें। नियमित स्नान करें। हलके-फुलके व्यायाम के लिए प्रात:काल सैर करने जाएं। ढीले-ढाले आरामदेह वस्त्र पहनें। पर्याप्त मात्रा में जल का सेवन करें। घर के दैनिक कार्य करती रहें।
  • प्रेगनेंसी में दिन में अधिक न सोएं और रात्रि में देर तक न जागें।

आप अपने मोबाइल से इन्टरनेट पर आसानी से डॉक्टर हो सर्च कर सकते हैं| वहा से उनका फ़ोन नंबर देख सकते है, विडियो कालिंग(video calling) कर सकते हैं| गूगल में जा कर टाइप करे – Gynaecologist in Delhi NCR आप जिस सिटी में रहते है वह सिटी डाल कर सर्च करे|
क्रेडीहेल्थ(Credihealth) एक ऑनलाइन चिकित्सा सहायक कंपनी है जो भारत में टॉप के अस्पतालों कि जानकारी देती हैं| इस वेबसाइट में फ्री में से अपनी समस्या के बारे में बात कर सकते हो और अच्छे डॉक्टर का अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हो|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *