गुडहल के फूल के 13 सबसे बड़े फायदों को यहां जाने

गुड़हल के फूल (Gudhal ke phool) का इस्तेमाल आमतौर पर पूजा पाठ में किया जाता है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि इस फूल का सेवन भी किया जाता है। जी हाँ, गुड़हल का फूल आपकी सेहत के लिए बहुत गुणकारी है। इसकी जड़ से लेकर फूल और पत्तियां सब कुछ किसी न किसी बीमारी के इलाज में इस्तेमाल की जाती है। यही वजह है कि आयुर्वेद में भी इसे एक औषधि माना गया है।

गुड़हल का वानस्पतिक नाम हिबिस्कस रोजा-सायनेन्सिस (Hibiscus rosa-sinensis) है। इसके फूल चटक लाल रंग और सफेद रंग के होते हैं जो दिखने में बहुत ही आकर्षक लगते हैं। आप गुड़हल के पौधे को घर के बगीचे में लगा सकते हैं।

गुड़हल के फूल के फायदे (Gudhal ke phool ke fayde)

गुड़हल के फूल का पूजा में इस्तेमाल तो आपने पहले भी किया होगा लेकिन इस लेख में हम आपको इस फूल के अन्य उपयोग बता रहे हैं। आइये गुड़हल के फूल के फायदों पर एक नज़र डालते हैं।

बालों को बढ़ाने के लिए करें गुड़हल का प्रयोग :

गुड़हल का फूल बालों को लम्बे समय तक काला बनाये रखता है साथ ही इसका प्रयोग करने से बालों की चमक एवं लम्बाई बढ़ती है। इसलिए अगर आपके बालों की लम्बाई छोटी है और आप  बालों को बढ़ाने के घरेलू उपाय खोज रही हैं तो गुड़हल का फूल (Gudhal ke phool) सबसे अच्छा विकल्प है।

बालों को बढ़ाने के लिए गुड़हल के फूल का इस्तेमाल कैसे करें इसकी विस्तृत जानकारी यहां पढ़े.

गंजेपन की दवा है गुड़हल का फूल :

आज के समय में लोगों के इतने बाल झड़ रहे हैं कि वे कम उम्र में ही गंजेपन के शिकार हो जाते हैं। अगर आप भी गंजेपन से परेशान हैं तो इसकी रोकथाम के लिए गुड़हल के फूल (Gudhal ke phool) का उपयोग करें।  आयुर्वेदिक विशेषज्ञों के अनुसार गाय के मूत्र में गुड़हल के फूलों का रस मिलाएं। अब इस मिश्रण को नियमित तौर पर बालों में लगाएं। ऐसा करने से गंजापन दूर होता है और बाल तेजी से बढ़ते हैं।

याददाश्त बढ़ाने के लिए करें गुड़हल के फूल का उपयोग :

अगर आपकी याददाश्त कमजोर है और कोई भी बात आप जल्दी भूल जाते हैं तो इस समस्या से निजात दिलाने में गुड़हल का फूल काफी उपयोगी है। आयुर्वेदिक विशेषज्ञों के अनुसार गुड़हल के फूल और पत्तियों से तैयार पाउडर को रोजाना मीठे दूध में मिलाकर पीने से याददाश्त तेज होती है।

पथरी के इलाज में फायदेमंद है गुड़हल का फूल :

अगर आपको किडनी की पथरी की समस्या है तो इसके इलाज में गुड़हल काफी उपयोगी साबित हो सकता है। ऐसा माना जाता है कि गुड़हल के फूलों के पाउडर (हिबिस्कुस पाउडर) या गुड़हल की चाय पीने से किडनी की पथरी दूर करने में मदद मिलती है।

विशेषज्ञों के अनुसार गुड़हल के फूलों (Gudhal ke phool) में प्राकृतिक रूप से मूत्रवर्धक गुण होता है जिसकी वजह से यह किडनी की पथरी के इलाज में सहायक होती है। हालांकि इस संबंध में आयुर्वेद में कहीं उल्लेख नहीं मिलता है ना ही किसी रिसर्च में इस तरह की जानकारी सामने आयी है। इसलिए यदि आप पथरी के इलाज में गुड़हल का सेवन कर रहे हैं तो पहले डॉक्टर से इस बारे में बात कर लें।

गुड़हल के फूल खाने के अन्य फायदे :

ऊपर बताए गए फायदों के अलावा भी गुड़हल के फूल खाने के कई अन्य फायदे हैं। आइये जानते हैं :

1- मुंह में अगर छाले हो गए हैं तो 2-3 दिन लगातार गुड़हल के पत्तों और फूलों को चबाकर खाएं। इससे चाले जल्दी ठीक होते हैं।

2-  गुड़हल के फूलों (Gudhal ke phool) को घी में तल लें और इसे बूरा के साथ मिलाकर खाएं। इसे खाने से महिलाओं को मासिक धर्म से जुड़ी कई समयाओं में आराम मिलता है।

3- गुड़हल के फूल यौन शक्ति को बढ़ाने में भी कारगर हैं। हालांकि यौन क्षमता बढ़ाने के लिए आप आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श के बाद ही इन फूलों का सेवन करें।

4- जो महिलाएं ल्यूकोरिया से पीड़ित हैं उन्हें गुड़हल के फूलों को घी में तलकर मिश्री के साथ खाना चाहिए या गाय के दूध के साथ इसका सेवन करना चाहिए।

5- गुड़हल की चाय पीने से मोटापा कम होता है और कोलेस्ट्रॉल में कमी आती है।

6- गुड़हल का फूल गर्भधारण रोकने में उपयोगी होता है, लेकिन इसका उपयोग चिकित्सक के परामर्श के आधार पर ही करें।

7- गुड़हल का फूल शरीर में खून की कमी को ठीक करता है। एनीमिया के मरीजों का इसका उपयोग करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *