एसिडिटी का कारण (Acidity), लक्षण और पेट का फूलना और उसका सही निवारण

जब हम खाना खाते हैं तो उसका सही तरह से पचना बहुत जरूरी होता है पाचन क्रिया एक जटिल प्रक्रिया है जिसके अनुसार हमारे पेट में एक ऐसे एसिड को स्रवण होता है| जिससे भोजन का पाचन क्रिया होती हैं| आधुनिक विज्ञान के अनुसार हमारे पेट यानी आमाशय में पाचन क्रिया के लिए हाइड्रोक्लोरिक अम्ल और पेप्सिन का स्रवण होता है सामान्य तौर पर यह पेप्सिन आमाशय में ही रहता है और यह भोजन की नली के संपर्क में नहीं आता हैं, आमाशय और भोजन नली के जोड़ वाली विशेष प्रकार की मांसपेशियां होती है जब कुछ खाते पीते हैं तो यह खुल जाती हैं इसमें से कोई विकृति आने के कारण कभी-कभी यह नली खुली रह जाती है और एसिड तथा पेप्सिन भोजन नली में आ जाता है जब ऐसा बार-बार होता है तो आहार नली में सूजन तथा घाव होने की संभावना बढ़ जाती है जिसके कारण हमारे पेट में गैस यानी एसिडिटी बनने लगती है|
इसके परिणाम स्वरुप सीने में जलन है और पेट में थोड़ा परेशानी का एहसास होने लगता है पेट में गैस बनना भले ही कोई गंभीर बीमारी ना हो पर यह शरीर में होने वाले अन्य रोगों के लक्षण भी हो सकते हैं जब हमारा खाया हुआ खाना पेट में सही से नहीं पचता है या सुबह पेट ठीक से साफ ना होना और कब्ज की वजह से गैस बनने लगती है,
पेट की गैस कभी-२ बहुत ही खतरनाक और जानलेवा बन जाती हैं | इस बीमारी को गंभीरता से लाना चाहिए |

एसिडिटी के लक्षण-

  • पेट में जलन का एहसास होना
  • सीने में जलन या दर्द होना
  • मितली का अहसास होना
  • डकार आना, खाने पीने में कम दिलचस्पी पेट में जलन का एहसास होना
  • मुंह में खट्टा पानी आना, डकार लेते समय भोजन गले में आ जाना
  • मल में खून आ जाना,
  • बुखार, दाहिने तरफ पेट में दर्द और फूलना जाना|

गैस से होने वाली परेशानियां –

  • पेट में गैस बनने के कारण चक्कर आना घबराहट होना,
  • सीने और  पीठ में दर्द होना,
  • बार-बार गैस निकलना फागन पाद आना,
  • गैस बनने के कारण पेट में खिंचाव होना और भूख ना लगना
  • कब्ज रोग के कारण मुंह से बदबू आना,
  • सिर में दर्द होना और मुंह के छाले पढ़जाना, आंखों का मोतियाबिंद तथा उच्च रक्तचाप आदि परेशानी बन सकती है|

पेट में एसिडिटी बनने के कारण

  • तली हुई चीजों का अधिक सेवन करना,
  • मल तथा पेशाब को पेट को रोकना,
  • ठंडी चीजें जैसे आइसक्रीम Pepsi चॉकलेट तथा ठंडे पेय पदार्थ भी कब्ज रोग को बढ़ावा देते हैं, जिसके कारण एसिडिटी बनने की संभावना बढ़ जाती है
  • दर्द नाशक दवाइयों का अधिक सेवन करना,
  • व्यायाम तथा शारीरिक श्रम ना करना,
  • शरीर में खून की कमी होना,
  • कम पानी पीने के कारण एसिडिटी बनने लगती है
  • बासी भोजन खाने से एसिडिटी होती है
  • अधिक से अधिक धूम्रपान कथा नशीली दवाइयों और अल्कोहल तंबाकू का सेवन से भी एसिडिटी बनती है
  • ऐसे पदार्थों का सेवन करना जिन्हें पचाने में कठिनाई होती है कुछ सब्जियां जैसे पत्ता गोभी, फूल गोभी, ब्रोकली या दूसरे पत्ते वाली सब्जियां, मूली इत्यादि पेट में गैस उत्पन्न करती हैं
  • लंबे समय तक खाली पेट रहने से एसिडिटी बनने लगती है
  • भारी दालो, राजमा, उड़द की दाल इत्यादि से भी एसिडिटी बनती है
  • चाय और कॉफी पीने से भी एसिडिटी होती है
  • अनियमित चटपटा मसाले वाला भोजन करना या खाना खाने के तुरंत बाद सो जाना यह सब एडिट एसिडिटी को बढ़ावा देते हैं

अब हम आपको एसिडिटी का उपचार के लिए कुछ आसान तरीके बताने जा रहा हूं जिससे आप एसिडिटी से निजात पा सकते हैं –

  • रात को जब भी आप खाना खाएं तो खाना खाने के बाद गुड़ खाए
  • एसिडिटी पेट में बनी हुई है तो एक गिलास पानी में मीठा सोडा मिलाकर पिए
  • पुदीने की पत्तियों को उबालकर पीने
  • गुनगुने पानी में नींबू डालकर नारियल पानी त्रिफला पाउडर को दूध में मिलाकर एलोवेरा का जूस पिए मूली के छोटे-छोटे टुकड़े काटकर उसमें काली मिर्च पाउडर और काला नमक मिलाकर खाएं खाना खाने के बाद एक चम्मच सौंफ और मिश्री मिलाकर करखाना
  • दिन में तीन बार हींग को हलके गर्म पानी में मिलाकर, अच्छे से घोलकर पीने से एसिडिटी, कब्ज, पेट में गैस का रोग आदि में तुरंत लाभ होता है.
  • रोजाना खाना खाने के बाद याद से 1 लौंग व इलाइची जरूर खाये, यह उपाय एसिडिटी व गैस के रोग में बहुत फायदा करता है. पेट में गैस के इलाज में अत्यंत लाभ करता हैं.
  • एक चम्मच जीरा एक गिलास पानी में मिलाकर पिने से गैस की समस्या दूर होती है व पाचन शक्ति बढ़ती हैं. इसी तरह जीरा पेट में गैस ट्रीटमेंट करता है
  • भोजन के साथ सलाद जरूर खाये, रोजाना प्याज, टमाटर, धनिया, काला जीरा, सेंधा नमक, अजवाइन आदि चीजों का सलाद बनाकर
  • लहसुन को सुबह खाली पेट ऐसे ही निगल जाने से पेट के सभी रोगों में लाभ होता है.
  • जीरा और 1-2 लहसुन को 12 ग्राम घी में भून लें, और रोजाना भोजन करे से पहले इस पेट में गैस के घरेलु उपाय का सेवन करे.
  • जिसको ज्यादा गैस बनती है उसे रोजाना पानी में लौंग उबालकर वह पानी पिलाये
  • भोजन करने के बाद एक कप दही व थोड़ा सा गूढ़ अवश्य खाये
  • आधा चम्मच सेंधा नमक और इतनी ही अजवाइन ले दोनों को मिलाकर एक ग्लास हलके गर्म पानी में मिला दें और इसका सेवन करे यह भूख को भी खोलता है एसिडिटी गैस से छुटकारा दिलाता है
  • अदरक की चाय पिए या फिर अदरक के रस में थोड़ा सा गर्म पानी मिलाये व जरा सी शक़्कर मिलाकर पिए.
  • खाना खाने के बाद तुरंत सौंफ व मिश्री मिलाकर खाने से भी एसिडिटी व कब्ज, पेट में गैस की समस्या नहीं होती
  • लस्सी पिने से भी पेट के रोगों में लाभ होता हैं एसिडिटी, गैस आदि में आराम मिलता है
  • रोजाना सुबह सिर्फ छाछ पिने से ही पेट के समस्त रोगो में लाभ होता है.

हलके में न ले पेट में गैस की समस्या क्यों कभी-२ एसिडिटी बहुत ही घातक हो जाता है  यह गंभीर और दूसरी बीमारियों का रूप ले लेती हैं| यदि आप के पेट में हमेशा गैस कि सिकायत रहती हैं तो आप डॉक्टर हो अवस्य दिखाए| उनके दिए गए राए को माने और दवाईयों के समय से ले|
इन्टरनेट के माध्यम से आप घर बैठे आप कैसे डॉक्टर से बात कर सकते हो यह मैं आप को बताता हू| अपने मोबाइल से गूगल ओपन करने और उसमे टाइप करे best gastroenterologist Delhi NCR, आप पास के सिटी भी डाल सकते जैसे  kolkata, mumbai, kanpur, Lucknow, Chennai, Hyderabad इत्यादि |
गूगल पर आप को बहुत सी चिकित्सा सहायता कंपनी मिलेगी, उसमे से एक क्रेडीहेल्थ(Credihealth) यह भारत की सबसे अच्छी चिकित्सा सहायता कंपनी, जहाँ आप डॉक्टर से video कॉल करके, अपनी समस्या के बारे पूछ सकते हो और अच्छे डॉक्टर का भारत में किसी भी टॉप अस्पताल में अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं | इस वेबसाइट में आप डॉक्टर्स कि फीस, उसका अनुभव, डॉक्टर का बैठने का समय इत्यादि सब पता लगा सकते हैं|

One thought on “एसिडिटी का कारण (Acidity), लक्षण और पेट का फूलना और उसका सही निवारण

  • June 26, 2019 at 9:06 am
    Permalink

    Amazing blog layout here. Was it hard creating a nice looking website like this?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *